Description

मालोजी अभी तक जाधवराय द्वारा किए गए अपमान को भूला नहीं था। मालोजी भी अभी तक अहमदनगर की सेवा में था तथा उसकी पुत्री जीजाबाई भी अब तक अविवाहित थी। इसलिए मालोजी ने निजामशाह से प्रार्थना की कि वह जाधवराय से कहकर जीजाबाई का विवाह मेरे पुत्र शाहजी से करवाए।

https://www.bharatkaitihas.com/shivajis-childhood/

 

 

Copyright © 2022, All Rights Reserved

Back to Top